74 नेपाली गजल - Nepali Ghazal
  • स्वार्थ परित्याग गरी कर्म गरौ बहुजन हिताय

लेखकःरामचन्द्र शर्मा 560 पटक पढिएको:

स्वार्थ परित्याग  गरी कर्म  गरौ बहुजन हिताय
पोखी सत्कर्म छताछुल्ल ज्ञान चरौ बहुजन हिताय
 
अनभिज्ञ छैनौ इतिहासको भेट्छौ किर्तिमान त्यहाँ
सुन्यौ उपदेश घासिको नाम छरौ बहुजन हिताय

बेद शास्त्र पुराण मार्ग दर्शन  गर्छन अकन्टक भारी
गुन्जायमानस्वर घन्कीरहन्छन कान भरौ बहुजन हिताय

धर्म काम अर्थ मोक्ष निर्देशित पथ यो गन्तब्य को
अमर छैनन् जीव चराचर शान मरौ बहुजन हिताय

बनाऔ सुखमय जीबन ज्ञान बिज्ञान अघि बढाई
तमसोर्मा ज्योतिर्गमय अज्ञान तरौ बहुजन हिताय

रामचन्द्र शर्मा